देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टीसीएस (TCS) अब टाटा ग्रुप (Tata Group) के लिए सबसे ज्यादा मुनाफा देने वाली कंपनी नहीं रह गई है।

करीब एक दशक बाद उससे यह तमगा छिन गया है।

टाटा स्टील (Tata Steel) ने टीसीएस को पीछे छोड़कर एक बार फिर यह तमगा हासिल कर लिया है।

दुनियाभर में कमोडिटीज की कीमतों में तेजी और भारत में इकनॉमिक रिकवरी से टाटा स्टील के मुनाफे में तेजी आई

और वह टीसीएस को पछाड़कर टाटा ग्रुप के लिए सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी बन गई है।

वित्त वर्ष 2022 में टाटा स्टील का नेट प्रॉफिट टीसीएस से अधिक रहा। कंपनी के यूरोपीय बिजनस का रेवेन्यू 54 फीसदी बढ़ गया।

वित्त वर्ष 2022 में टाटा स्टील का नेट प्रॉफिट 41,749 करोड़ रुपये रहा जबकि टीसीएस का नेट प्रॉफिट 38,327 करोड़ रुपये रहा।

हालांकि दोनों कंपनियों के मार्केट कैप में जमीन आसमान का अंतर है। टीसीएस का मार्केट कैप करीब 13 लाख करोड़ रुपये है

और यह रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के बाद देश की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी है।

दूसरी ओर एशिया की सबसे पुरानी स्टील कंपनी टाटा स्टील का मार्केट कैप करीब 1.6 लाख करोड़ रुपये है।

और जानकारी के लिए क्लिक करें।

CLICK HERE