चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा में बदमाशों ने एक सनसनीखेज वारदात में हिस्ट्रीशीटर देवा गुर्जर (History sheeter Deva Gurjar) की हत्या कर दी.

बदमाशों ने वारदात को अंजाम उस समय दिया जब देवा गुर्जर सैलून में बैठा था. हत्या को अंजाम देकर बदमाश फरार हो गए.

वारदात से इलाके में अफरातफरी मच गई. देवा गुर्जर के शव को कोटा के एमबीएस अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है.

वहां आज उसका पोस्टमार्टम करवाया जायेगा. वारदात की संवेदनशीलता को देखते हुये अस्पताल की मोर्चरी के आगे भारी पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है.

पुलिस पूरी तरह से अलर्ट मोड पर है. देवा गुर्जर कोटा के आरकेपुरम थाना का हिस्ट्रीशीटर था.

करीब एक दर्जन से अधिक बदमाशों ने सैलून की दुकान में घुसकर धारदार हथियारों से ताबड़तोड़ वारकर देवा गुर्जर की हत्या कर दी.

अचानक हुई इस वारदात से आसपास के व्यापारी सहम गए और वहां अफरातफरी मच गई. कोई कुछ समझता इससे पहले ही हमलावर वारदात को अंजाम देकर अपने वाहनों में बैठकर फरार हो गए.

बाद में लोगों ने सैलून की दुकान में अचेत पड़े देवा को उठाया और रेफरल अस्पताल ले गए. वहां देवा की गंभीर हालत को देखते हुए प्राथमिक उपचार के बाद उसे कोटा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया.

लेकिन परिजन उसे मेडिकल कॉलेज ले जाने के बजाय एक निजी अस्पताल ले गये. वहां पहुंचते ही चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

हमलावरों ने रिवाल्वर से गोलियां भी चलाई. उस पर तीन फायर किए गये थे. इसमें से एक गोली उसकी जांघ के निचले हिस्से में, एक जबड़े पर और एक पेट के निचले हिस्से में लगी.

रावतभाटा के बोराबास गांव निवासी देवा गुर्जर की मौत का कारण पुरानी रंजिश बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि राजनीतिक रसूख के चलते देवा अपना दबदबा कायम करना चाहता था.

पुलिस हमलवरों को ढूंढूनें के लिये लगातार दबिश दे रही है. और जानने के लिए क्लिक करें।